ऐतिहासिक पृष्ठभूमि/परिदृश्य

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

पद्मभूषण स्व0 प्रो0 बोसी सेन - संस्थापक
संदेश - प्रगति की ओर अग्रसर रहो

संस्थान की स्थापना जुलाई 1924 को पदमभूषण स्व० प्रो० बोसी सेन द्वारा कोलकाता (पूर्व नाम कलकत्ता) में की गयी तथा इसका नाम विवेकानन्द लेबोरेटरी रखा गया। लेबोरेटरी को 1936 में स्थायी रुप से अल्मोड़ा स्थानान्तरित किया गया तथा 1959 में उत्तरप्रदेश सरकार को हस्तान्तरित करने तक  शुभ चिंतकोंद्वारा दिये गये दान एवं मदद द्वारा इसे संचालित किया गया। 1 अक्टूबर 1974 को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा इस संस्थान को अपने अन्तर्गत ले लिया एवं इसका नाम विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान हो गया।

संस्थान के विकास में महत्पूर्ण मील के पत्थर

  • 1924 - कलकत्ता में एक  छोटे कमरे में प्रयोगशाला स्थापित की गई - एक व्यक्ति प्रयोगशाला।
  • 1936 - प्रयोगशाला  को अल्मोड़ा के कुन्दन हाउस में स्थायी रुप से स्थानान्तरित किया गया ।
  • 1943 - शोध प्राथमिकतामौलिक शरीर क्रिया विज्ञान के स्थान पर कृषि में परिवर्तित की गयी।
  • 1952 - हवालबाग में 15 एकड़ भूमि आवंटन ।
  • 1959 - प्रयोगशाला उत्तरप्रदेश सरकार को स्थानान्तरित की गयी तथा 215 एकड़ भूमि का आवंटन ।
  •  1986 - संभागों एवं अनुभागों का सृजन।
  • 2001 - सरदार पटेल उत्कृष्ट भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पुरस्कार वर्ष 2000 में प्राप्त किया ।
  • 2008 - सरदार पटेल भारतीय कृषि अनुसंधान सम्मान पुरस्कार वर्ष 2007 में प्राप्त किया।

 

पृष्ठ आखरी अपडेट : 08-06-2017